ताज़ा रेजगारी

मौत पर लिखी पहली कविता

मौत पर लिखना
ज़िन्दगी की चाह का खत्म हो जाना नहीं है
ऐसा होता
तो अब तक अमर न होते पाब्लो नेरुदा।

ज़िन्दगी अपने मूल रुप में
मरने का इन्तज़ार ही है
पर मरना अपने मूल रुप में
ज़िन्दगी से हारना नहीं है।

मौत गर्द सी जमी होती है हवाओं में
मिटटी में, पानी में, सूरज की किरणों में
और हर उस चीज़ में जिसका सम्बंध जीने से है
और गर्द को साफ किया जाना हर लिहाज से लाजमी होता है।
इस तरह से मौत कोई अवांछित घटना नहीं है।

धमनियों में खून के साथ
उपस्थित होती है मौत
जब खून रगों में बह रहा होता है
तो दरअसल मौत बह रही होती है रगों में
पर जब मौत रगों में बह रही होती है
तो उसका अर्थ कतई नहीं है कि हम मर रहे हों।

हम अपनी सांसों के साथ
मौत के कुछ कुछ अंश
घोल रहे होते हैं अपने शरीर में
और जब हम ऐसा कर रहे होते हैं
तो असल में हम जी रहे होते हैं
दरअसल जीना मरने की प्रक्रिया का एक ज़रुरी सा अंग है।

हर काम सही होने के लिये
ज़रुरी है उससे जुड़ी हर प्रक्रिया का ठीक से पूरा होना
इस तरह ढंग से मरने के लिये
ज़रुरी है पूरी तरह जीना।

जीना दरअसल मौत पर लिखी तुकबन्दी की
पहली पंक्ति है
जिस पर पूरी तरह निर्भर करता है
कि दूसरी पंक्ति कितनी खूबसूरत होगी।

और यकीन मानिये
मौत भी खूबसूरत हो सकती है।

इस तरह अगर हम खूबसूरती से जिये
तो जिस दिन हम मर रहे होंगे
उस दिन हमारे साथ जी रही होगी खूबसूरती।

Comments

comments

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz