ताज़ा रेजगारी

बंद दरवाज़े पे बस अखबार डलता रह गया

बेरंग सा एक दिन अपने रंग बदलता रह गया
रोशनी में डूबकर सूरज पिघलता रह गया

बिक रहा था यूं अकेलापन खुले बाज़ार में
बिन खरीददारों के कारोबार चलता रह गया

नीद को भी जागने की इस कदर लत लग गई
ख़्वाब एक मायूस सा बैठा मचलता रह गया

बंद कमरे में अकेले रोशनी घुटती रही
एक कोने में दिया बेकार जलता रह गया

जिस तरफ खिड़कियां खोली उस तरफ दीवार थी
अलसुबह खिड़की का परदा आंख मलता रह गया

पार्क की उस बेंच ने तापी अकेले धूप फिर
सर्दियों का एक दिन तनहा ठिठुरता रह गया

किसी ने ना ली खबर, कमरे में बूढ़ा था बीमार
बंद दरवाज़े पे बस अखबार डलता रह गया

 

Comments

comments

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar
wpDiscuz