ताज़ा रेजगारी

उनके काले सच

जनता को भरमाने वाले उनके काले सच
कड़वे राज़ छुपाने वाले उनके काले सच
झूठ की चादर तान के चैन से सोने वाले लोग
सबकी नीद उड़ाने वाले उनके काले सच
गलती करके वो कहते हैं बहक गए थे हम
खुद को न्याय दिलाने वाले उनके काले सच
अपनी धमक के आगे जो सबको बौना समझें
दुनिया को धमकाने वाले उनके काले सच
सत्ता को अलबत्ता मानें जो अपनी जागीर
तर्कों को झुठलाने वाले उनके काले सच
आदर्शों का झोला लेकर घूमा करते हैं
बातों से बहकाने वाले उनके काले सच
सुलझे-सुलझे दिखने वाले उलझे-उलझे लोग
खुद को ही उलझाने वाले उनके काले सच
एक दिन पर्दा गिरता है सब करके पर्दाफाश
बेपर्दा हो जाने वाले उनके काले सच

Comments

comments

Leave a Reply

Be the First to Comment!

Notify of
avatar